शुक्रवार, 31 दिसंबर 2010

हो मंगलमय उत्कर्ष

 नव वर्ष के अवसर पर मेरी ओर से हार्दिक शुभकामनाएं
नई उम्मीद
नया विश्वास
नया सफर
नई शुरुआत
मैं कर रहा हूं
इस चाहत के साथ
कि
दीवाली से बीतें दिन
माह रहें मधुमास
साल रहें ऎसे जैसे
जीवन को सौगात
हर दिन,माह और वर्ष
हो सुखों का स्पर्श
समृद्धि का साथ रहे
हो मंगलमय उत्कर्ष ॥

7 Comments:

Patali-The-Village said...

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं|

ktheLeo said...

दिनेश जी,
"सच में" पर आकर अपने विचार व्यक्त करने के लिये आपका का शत शत धन्यवाद!!

डॉ॰ मोनिका शर्मा said...

हार्दिक शुभकामनाएं...

ZEAL said...

नव वर्ष मंगलमय हो

ZEAL said...

हर दिन,माह और वर्ष
हो सुखों का स्पर्श
समृद्धि का साथ रहे
हो मंगलमय उत्कर्ष....

ऊर्जा से भरपूर बेहतरीन कविता।

.

: केवल राम : said...

आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...स्वीकार करें
मुझे माफ़ करना ...आपके ब्लॉग तक बहुत देर से पहुँच पाया

: केवल राम : said...

दीवाली से बीतें दिन
माह रहें मधुमास
साल रहें ऎसे जैसे
जीवन को सौगात
बहुत सुंदर पंक्तियाँ ..आशा और विश्वास का संचार करती हुई ..जीवन प्रेरणाओं से भरपूर ,..शुक्रिया

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट