शनिवार, 5 जून 2010

समस्या

उस दिन
अचानक
नेता जी ने
अपने सहयोगियों की
एक सभा बुलायी
उनके सामने
अपनी समस्या बतायी
वे बोले,
दोस्तो मेरे साथ
धोखा हुआ है
एक दलाल ने
भर्ती का
मेरा हिस्सा
मार लिया है
अब तुम ही बताओ
उसका
क्या हाल किया जाए
मार दिया जाए
कि छोड़ जाए।

4 Comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

समस्या भी बड़ी गंभीर है नेता जी की... :):)

अच्छा व्यंग

योगेश शर्मा said...

Sundar, sahaj,pyara vyang...sahee hai ki baiman vyakti bhee imaandaar saathee chahtaa hai

हरकीरत ' हीर' said...

आपसे और उम्मीदें हैं ....!!

आचार्य जी said...

आईये जानें .... क्या हम मन के गुलाम हैं!

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट