बुधवार, 10 फ़रवरी 2010

उधार

वह कुछ दिन से मोबाइल लेने की सोच रहा था। आज मन बना कर बेटे की दुकान पर गया और बोला,'' बेटा,मुझे भी एक मोबाइल दे दो '' बेटा बोला,'' ले लीजिए डैडी ,पर हाँ... आजकल मैंने उधार देना बन्दकर दिया है।'' बेटे का जवाब सुनकर वह कुछ देर के लिए असमंजस में पड़ गया और कुछ संभलते हुए बस इतना ही कहा- ''ठीक है बेटा,जब पैसे होंगे तब खरीद लूंगा।'' फिर इसके बाद वह मन में उठते हुए अनेक निरुत्तर सवालों का जवाब ढूंढ़ने निकल पड़ा

7 Comments:

Pandit Kishore Ji said...

bahut hi badhiya likha hain aapne

संगीता पुरी said...

ओह !!

निर्मला कपिला said...

अच्छी लघु कथा है आज कल के बच्चों का सच दिखलाती। शुभकामनायें

singhsdm said...

ufffffffff..............!

shikha varshney said...

uffffffffffff ye haal ho gaya hai ?

Gulshan Madaan said...

aman sandesh padhkar sachmuch aman aur chain ka ehsaas hota hai.... mai din me aksar aman sandesh par jaakar rachnaen padhta rehta hoon... aapse milkar mujhe ye zindgi achhchhi lagi.... jaari rahe ye mohabbat ka suhana safar

gulshan madaan, kaithal

Gulshan Madaan said...

kashtiyon ko naakhuda bhi chahiye
aur khuda ka aasra bhi chahiye

in hawaon ne bujhaye hai chiraag
aur chiragon ko hawa bhi chahiye

rakhni ho kaayam jo ye nazdikiyan
rakhna thoda faasla bhi chahiye

manzilon ke waste GULSHAN hamen
raasta bhi hosla bhi chahiye

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट