सोमवार, 1 दिसंबर 2008

मैं और तुम

मेरी आँखों में
समाये हो तुम
मेरी सांसों में
बसे हो तुम
मेरा तन
मेरे प्राण हो तुम
मेरी स्तुति
मेरे स्तुत्य हो तुम
मेरी प्रेरणा
मेरा प्रण हो तुम
मेरी साधना
मेरा साहित्य हो तुम
ए-मेरे वतन
मेरी शान हो तुम
मैं अनजान हूँ यहाँ
मेरी पह्चान हो तुम
गर्व से कहता हूँ
मैं हिन्दुस्तानी
हिन्दुस्तान हो तुम ll

1 Comment:

roopchand said...

Very good Sir Keep it up

हिन्दी ब्लॉग टिप्सः तीन कॉलम वाली टेम्पलेट